Loading the player...

लौट के फिर कभी तुम ना आना सनम Laut Ke Fir Kabhi...

  • चुभते कान्टों में फूलों के जैसा हो कुछ
    कोई लमहा भी तुझको डराता ना हो
    सहरा सवान की बूँदों के जैसा हो कुछ
    तुझको औरों के नगमे सुनाता ना हो
    जब तू हंसके भी आंसू बहाने लगे
    इक फरिश्तों की दुनिया बनाने लगे
    सब किताबों को तब भूल जाना सनम
    लौट के फिर कभी तुम ना आना सनम..........................

    Category : India

    #लौट#के#फिर#कभी#तुम#ना#आना#सनम#laut#ke#fir#kabhi

arrow_drop_up